Highlights

मुरार के बारे में

प्राचीन काल में मुरार ब्रिटिश सैन्य छावनी था. १८५७ के विद्रोह के दौरान, मुरार को मध्य भारत के उभरते हुए स्थान के रूप में जाना जाने लगा . सन १८८६ में सिंधिया द्वारा ग्वालियर का किला बहाल किया गया था. जिस कारण सैन्य टुकडिया झाँसी में वापस चली गयी.तत्पश्चात सिंधिया ने ग्वालियर पर शासन किया.